चलते-चलते

चलते-चलते

नितिन प्रधान नई दिल्ली। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 बनाने वाली समिति के अध्यक्ष पद्म विभूषण डॉ के कस्तूरीरंगन ने कहा है कि नई शिक्षा नीति लागू किए जाने के पीछे प्रमुख उद्देश्य यह है...
-राजेंद्र भट्ट* अक्सर ऐसा होता है कि हम किसी  तथ्य के  अटपटेपन को  बार-बार देखते हुए भी उस पर गौर नहीं करते, हमारा  दिमाग  उस  विचित्रता को, क्षण भर ठहर कर, पकड़ नहीं...
On a day, when India loses five match ODI series to Australia, there are any number of reasons for avid cricket fans to switch to the feminine version of the game, argues Sudhirendar Sharma*
प्रियंवदा सहाय*  अंग्रेज़ी में एक कहावत है-शेयरिंग इज केयरिंग। यानी चीजों को साँझा कर किसी की देखभाल करना। छोटी-छोटी चीज़ें साँझा कर हम लोगों में ख़ुशियाँ बाँटने के साथ उनकी देखभाल भी कर...
Satish Pandya* Ooh, by whom! Who else than the charismatic Pied Piper of Hamelin; nah, of India!  And look at the audacity of “don’t you know who...
Sudhirendar Sharma* Times have surely changed! While Mahatma Gandhi walked four hundred kilometres for a pinch of salt, his countrymen prefer using cars for buying a packet of salt from the neighbourhood store. And,...
वर्ष 2019 की बैसाखी यानि कल सुबह जलियाँवाला बाग़ की हृदयविदारक घटना को पूरे सौ वर्ष पूरे हो रहे हैं। बहुत बरस से कयास लगाए जा रहे थे कि शायद 100 वर्ष पूरे होने पर...
अपनी हाल ही की जयपुर यात्रा के दौरान मेरी मुलाक़ात हुई पर्यावरणविद और जलयोद्धा लक्ष्मण सिंह जी से जो जयपुर से करीब 80 किमी की दूरी पर स्थित लापोड़िया गाँव से हैं। जल संरक्षण के अपने मौलिक...
Sudhirendar Sharma Indifference, apathy,  disconcern or complete disconnect, whatever you call it, is what our bulging urban middle-class is going wherein it seems to have shut itself off from the pressing concerns...
अजीत सिंह*       यह पचास के दशक की बात है। हमारे गांव में समृद्ध परिवारों के दो घर होते थे। ज़नाना और मर्दाना। ज़नाना हिस्से को ‘घर’ कहते थे और मर्दाना हिस्से को...

RECENT POSTS