विशेष

विशेष

राजेन्द्र भट्ट नक्कारखाने में तूती – 3 पिछली बार नल-दमयंती की प्रेम- कथा की बात कही थी। नोट कीजिए कि ये प्रेम-कथा हमारे संस्कृत ग्रंथ ‘महाभारत’ में है। बल्कि इस...
इस वैबसाइट पर कविता के पाठक अजंता देव की कविताएं पहले भी पढ़ चुके हैं। वह अपनी कविताओं में आजकल विविध प्रयोग कर रही हैं। कभी हम उनसे इन प्रयोगों के बारे में एक लेख अलग...
आखिरी पन्ना आखिरी पन्ना उत्तरांचल पत्रिका के लिए लिखा जाने वाला एक नियमित स्तम्भ है। यह लेख पत्रिका के मार्च 2021 अंक के लिए लिखा गया। कभी-कभी लगता है कि...
A society where everyone has acquired a legitimacy of a soldier (for maintaining an imaginary nation)  is a society where exercise of basic individual expressions come with prohibitive cost. Mudrarakshasa
MK* In our series "Myths Under the Lens" you have already read articles on a variety of subjects ranging from numerology to the efficacy of vaccines. The same author, in this article discusses a...
Archana Datta* As the world reels under the devastating consequences of the COVID-19 pandemic, the Global Gender Gap Report, 2021, revealed that it created ‘new barriers and asymmetry between men and women…even...
मनोज पांडे*  इस पोस्ट में मैं आपस में जुड़ी तीन बातों पर चर्चा करूंगा: ब्लॉगिंग है क्या, इसके क्या फायदे हैं और सरल तरीके से ब्लॉग बनाया कैसे जाए.  तो चलिए शुरू...
Mudrarakshasa Both United States of America and India are witnessing a seemingly invincible ascendancy of right-wing populism. Both the countries are being run by charismatic demagogues and are reeling under a spell of...
Random Thoughts of a Media Monitor* Quite a few things have changed in the last thirty years. The world has, for instance. Generation, obviously. Language. Technology. Aspirations. And so has Indian Television News.
सुख और दुख पर सात लघु कवितायें इस वेब-पत्रिका में अजंता देव की कविताओं की यह चौथी कड़ी है। पहले आप उनकी कविताएं यहाँ , यहाँ और यहाँ पढ़ चुके हैं। अपनी...

RECENT POSTS