राजेन्द्र भट्ट लगता है कि हम इस समय एक बड़े नक्कारखाने में हैं जिसमें, सीधे-सीधे कहें तो ‘पोस्ट-ट्रुथ’ का शोर, धोंस-पट्टी और बेसुरापन है। सोशल मीडिया ने सम्पादकीय संस्था तथा तथ्यों की पड़ताल के फिल्टर...
Mudrarakshasa Liberal gloom appears to be insurmountable. There appears to be no effective or meditated response to right-wing onslaught. Populace, polity and public sphere is in firm grip of polarization logic. Can Indian...
राजेन्द्र भट्ट इस कोरोना-काल में ऐसे वाकये से बात शुरू करना अच्छा लग रहा है जिससे दुष्यंत कुमार की पंक्तियाँ याद आ गईं– ‘इस अंधेरी कोठरी में एक रोशनदान है।’ ये रोशनदान नोएडा...
राजेन्द्र भट्ट* मशहूर शायर मजाज़ ने एक बिम्ब का इस्तेमाल किया है – ज़ंजीरे-हवा। यानि हवा में ज़ंजीर बना कर किसी को बांधने की कोशिश। गांधीजी और उनके प्रभाव को शब्दों की चौखट...
विजय प्रताप आज मुझे ऐसे लोगों के बीच बोलते हुए बहुत अच्छा लग रहा है जो धर्म तथा जाति की किसी दीवार को नहीं मानते। वे केवल इंसानियत की जात पर ही...
Mudrarakshasa Middle ground is under threat. In fact, for a very long time ‘muddle of the middle’ is out of favour. In business management, lack of strategy is described as being ‘stuck in...
राजेन्द्र भट्ट नक्कारखाने में तूती - 2 पिछली बार ज़िक्र किया था कि गीता में कितने सुंदर तरीके से स्वयं कृष्ण कहते हैं कि अगर जड़ वैराग्य सही रास्ता...
Whether numerology is a science is often asked. How logical is numerology? Can you believe it? Rationalists find it as a myth spread to fool people and earn money out of that.
10 मई को प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम की जयंती पर विशेष राजेंद्र भट्ट 10 मई को भारत के 1857 के प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम की एक और जयंती होगी। ...
प्रो. रितु प्रिया* गाँधी जी की अपने लिये पहली पसंद थी डाक्टर बनना लेकिन चूंकि मेडिकल की पढ़ाई में जीवों को मारकर काटना होता था, इसीलिए उन्होंने इंग्लैंड जाकर कानून पढ़ा और बैरिस्टर...

RECENT POSTS