Mayank Agrawal* There is a visible trend among the modern Indian authors to pick themes from the ancient Indian literature and the popular legends, and present them differently with their own interpretation of the...
जैनबहादुर* लोहिया के सपनों का भारत, भारतीय समाजवाद की रुपरेखा: लेखक प्रोफेसर अशोक पंकज लोकभारती प्रकाशन, प्रयागराज द्वारा प्रकाशित मूल्य 225 रुपए, पृष्ठ 199   प्रखर समाजवादी...
सुधीरेंद्र शर्मा* “जो जाने-माने कवि और गीतकार आनंद बक्शी को नहीं जानता वो हिंदी सिनेजगत से वाकिफ नहीं है”, यह कहना है प्रसिद्ध कवि एवं गीतकार गुलज़ार का और उनका यह कथन हाल ही...
ओम निश्चल* पारुल बंसल की कविताएं इस वेबपत्रिका में प्रकाशित होती रही हैं और इस पत्रिका के पाठक स्त्री अस्मिता पर लिखी उनकी रचनाओं से बखूबी वाकिफ़ हैं। हाल ही में...
सुधीरेन्द्र शर्मा* 35 वर्ष पूर्व ईरान के धार्मिक और राजनीतिक नेता अयातुल्लाह ख़ुमैनी ने भारत में जन्मे ब्रिटिश लेखक सलमान रुश्दी के ख़िलाफ़ फ़रवरी 1989 में फतवा जारी किया था  जिसमें उन्होंने रुश्दी...
डॉ मधु कपूर* द्वारा पुस्तक समीक्षा प्रमुख भाषाविद एवं भाषा विज्ञानी डॉ सुरेश पंत की पिछले वर्ष प्रकाशित हुई बहुचर्चित पुस्तक ‘शब्दों के साथ-साथ’ का दूसरा भाग भी हाल ही में प्रकाशित...
डॉ मधु कपूर* बहाना भाषा का, ख़ज़ाना शब्दों का जाने-माने भाषाविद डॉ सुरेश पंत की पिछली पुस्तक “शब्दों के साथ-साथ” खूब चर्चित रही और एक वर्ष की अल्प-अवधि में...
नरेश शांडिल्य* द्वारा मोहन राणा के कविता संग्रह 'एकांत में रोशनदान' की समीक्षा मोहन राणा इस वेब-पत्रिका के लिए नए नहीं हैं। उनकी कुछ कविताएं (उनके संक्षिप्त परिचय के साथ) आप यहाँ और...
अखिल मित्तल*  राजेन्द्र भट्ट की पुस्तक का यह शीर्षक सुखद लगा। यह विश्व प्रसिद्ध आह्वान गीत 'वी शैल ओवरकम' की पंक्तियों से प्रेरित है। हिन्दी के प्रतिष्ठित  कवि गिरिजाकुमार माथुर द्वारा किए सरस-ओजस्वी रूपांतर ‘हम होंगे कामयाब’ ने...
ओंकार केडिया* ओंकार केडिया जो यदा-कदा आपकी इस वेब-पत्रिका में अपना योगदान देते रहते हैं, अपने दो कविता-संग्रहों के प्रकाशन के बाद अब एक व्यंग्य-संकलन को लेकर आ रहे हैं। शीघ्र-प्रकाश्य यह संकलन "मल्टीप्लेक्सस...

RECENT POSTS