राजेन्द्र भट्ट* मशहूर शायर मजाज़ ने एक बिम्ब का इस्तेमाल किया है – ज़ंजीरे-हवा। यानि हवा में ज़ंजीर बना कर किसी को बांधने की कोशिश। गांधीजी और उनके प्रभाव को शब्दों की चौखट...
There is no denying that the Indian farm sector, despite achieving record production year after year, is passing through severe crisis. All attempts, sincere or demonstrative by the successive governments, to ameliorate the lot of rural poor...
पूनम जैन* कल बिहार विधानसभा चुनाव की तिथियों की घोषणा होते ही एकबारगी फिर याद ताज़ा हो आई उन प्रवासी मज़दूरों की जिन्हें कुछ माह पहले अचानक ही अपने घरों को लौटने को...
MK* Are vaccines a solution to epidemics like COVID-19? For clarity, let us start with the concept of vaccination and how vaccines are developed. What actually is a...
अमरदीप* सिर्फ धूप पहनना सुनो आज तुम धूप पहनना सिर्फ धूप सजा लेना अपनी माँग में!
डॉ प्रकाश थपलियाल* वाल्मीकि रामायण और तुलसीदास कृत रामचरित मानस के रचनाकाल में लगभग साढ़े छः हजार साल का अन्तर है। वाल्मीकि रामायण जहां आज से करीब सात हजार वर्ष पहले रची गई...
MK* Ram Setu (also spelled Ram Sethu) or Adam’s Bridge has been in the news for many decades in India. Some Hindus see it as the bridge constructed by Lord Ram’s army when they...
पारुल हर्ष बंसल* एक चुटकी सिंदूर  एक चुटकी सिंदूर,  जिसकी क्रय वापसी है अति दुर्लभ। आ गिरी दामन में...
जयशंकर गुप्त* नियति बहुत ही क्रूर और निष्ठुर होती है. उसे क्या पता कि देश और समाज को किसकी कितनी जरूरत है. उसने बीते दो दिनों के भीतर जन सरोकारों से जुड़े सामाजिक...
Jitendra Ramprakash* At the time of posting this article, it is barely 40 hours that Swami Agnivesh passed away. And in these 40 hours, there is a surge of outpourings by people...

RECENT POSTS