‘महात्मा के महात्मा’ - सुज्ञान मोदी की पुस्तक का परिचय अगर आपसे प्रश्न किया जाये कि महात्मा गांधी के आध्यात्मिक मार्गदर्शक कौन थे तो शायद आप  उन शख्सियत का नाम ना ले...
राजेन्द्र भट्ट नक्कारखाने में तूती – 6 लंबे अंतराल तक किसी अनिष्ट की आशंका जैसी जड़ता-हताशा मन पर छाई थी। मित्र लोगों की प्रेरणा, दिलासों और फिर थोड़ा चिढ़े हुए उलाहनों...
–*इन्दु मेहरा वो संकरी गलियां जहां लम्बे अरसे से चहल-पहल रही है, रौनक रही है, हैरानी है आज वहाँ क्यूं इतना सन्नाटा छाया है, जैसे दिन में ही अंधेरा हो। या क्या हो गया...
Prof Aditya Nigam works at the Centre for the Study of Developing Societies, Delhi. His recent work has been concerned with the decolonization of social and political theory. In particular, he is...
आखिरी पन्ना आखिरी पन्ना उत्तरांचल पत्रिका के लिए लिखा जाने वाला एक नियमित स्तम्भ है। यह लेख पत्रिका के मार्च 2020 अंक के लिए लिखा गया।
Sudhirendar Sharma Clapping is as old as human existence. It is used to attract attention; to celebrate success; and, to express adulation. Be it guided (as in political rallies) or spontaneous (as during...
आज की बात आज तीसरा दिन है दिल्ली के दंगों को शुरू हुए। इक्का-दुक्का घटनाओं को छोड़ कर आज हिंसा की घटनाएँ नहीं हुईं। ऐसी घटनाओं पर देर से...
Interview with Puja Mehra In our recently started series of interviews, we spoke to Puja Mehra, a senior journalist who has been writing on the economy, finance and governance for almost eighteen years...
सिद्धार्थ जगन्‍नाथ जोशी* यह लेख विशेष आग्रह के साथ मंगाया गया है कि हमारे अध्यात्म के कॉलम में धर्म और राजनीति के प्रश्न पर दक्षिणपंथी मत भी आ सके। हालांकि लेखक ने वर्णाश्रम...
Sudhirendar Sharma Need it be said that everything in nature pulsates with a rhythm. Be it swirling sea waves; swinging green branches; or chirping bush crickets, there is rhythm...

RECENT POSTS