आखिरी पन्ना आखिरी पन्ना उत्तरांचल पत्रिका के लिए लिखा जाने वाला एक नियमित स्तम्भ है। यह लेख पत्रिका के मार्च 2021 अंक के लिए लिखा गया। कभी-कभी लगता है कि...
Mudrarakshasa Recent focus on Aatmnirbharta inevitably graduated to techno-nationalism and very quickly degenerated into conspiracy theories of international plot against India. This gives a new excuse for a fresh round of repressive...
व्यंग्य रचना राजेन्द्र भट्ट* पिछली दो कड़ियों में (यहाँ और यहाँ) हम घृणा के टूलकिट को काफी अचूक और कारगर बना चुके हैं। अब देखें कि इसके इस्तेमाल के...
व्यंग्य रचना राजेन्द्र भट्ट* प्रेम के चोर-दरवाज़े से आने वाली विवेक और उदारता की बयार से अपने स्व-घोषित महानतम राष्ट्र-जाति को बचाने वाले घृणा के कुछ हथियारों का हमने...
व्यंग्य रचना राजेन्द्र भट्ट* कुछ संयोग कितने खूबसूरत हो जाते हैं। इस साल वसंत पंचमी और वेलेंटाइन डे एक ही दिन पड़ गए और सुबह-सुबह याद ताज़ा हो...
MK* It is well known that living organisms behave in different ways during the day and at night. This looks like a habit acquired by them. However, at the...
MK* All higher animals need water. Scientists say, it is because all land animals have evolved from primitive sea animals. So, we swim in watery fluids when we are in the mother's womb....
Sudhirendar Sharma Music is nourishing, and words (which are often inert) come alive when music delivers them as sound. No wonder, we know more when someone speaks - words delivered...
आखिरी पन्ना आखिरी पन्ना उत्तरांचल पत्रिका के लिए लिखा जाने वाला एक नियमित स्तम्भ है। यह लेख पत्रिका के फरवरी 2020 अंक के लिए लिखा गया। 30 जनवरी को जब...
Mudrarakshasa Mudrarakshasa has written a series of articles for this web-magazine wherein he has dwelt upon the ongoing tussle between the Right and the Left across the world and in India. In this...

RECENT POSTS