वागीश कुमार झा* सूचना तंत्र का संजाल मानव जीवन के हर पहलू को आच्छादित कर चुका है. दशकों पूर्व इंटरनेट ने इसको एक नई उड़ान दी. अब आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस (AI – जिसे...
मनोज पांडे* इस वेब पत्रिका पर नियमित आने वाले पाठक मनोज पांडे के नाम से परिचित होंगे जिन्होंने UNDER THE LENS केटेगरी के तहत पचास से भी ज़्यादा लेख लिख कर अलग-अलग विषयों की गहन...
पुण्यतिथि 30 जनवरी पर विशेष लेख पराग मांदले* बहुत साल पहले कुंभ मेले के दौरान एक साधु से मैंने प्रश्न किया था कि सनातन तो परब्रह्म परमेश्वर को निर्गुण-निराकार...
Bhakti movement and the Temples Dr Uma Shankari* Temple building largely coincided with the rise of Bhakti movement in South India. It started around 7th century AD, and has continued...
मनोज पांडे* इस पोस्ट का टाइटल पढ़कर अगर आप चौंक गए हैं, तो कोई बात नहीं. आप अकेले नहीं हैं इस बात पर अचम्भा करने वाले. यह सही है कि मूली, जिसे हम कोई...
मनोज पांडे* इस पोस्ट में नमक से जुड़ी कुछ धारणाओं की पुष्टि की गयी है, लेकिन उनके पीछे क्या तर्क हैं और जो मान्यताएं हैं या सोशल मीडिया में सेंधा नमक, काला नमक और...
कर्पूरी ठाकुर जन्मशती 23 जनवरी के अवसर पर विशेष लेख *सुज्ञान मोदी भारत की राजनीतिक संस्कृति का जब भी मूल्यांकन होता है तब प्रायः उसके अप्रिय प्रसंग ही...
Mudrarakshasa Not too long ago, discussions revolved around the 'End of History,' 'End of ideology,' and even the 'End of Art.' The prevailing narrative was that, with the Cold War victory, liberal...
Come, Let’s Go Inside the Temple Dr Uma Shankari* How does the temple look from outside? The temple is essentially a square room with a pyramid standing...
डॉ मधु कपूर* बहाना भाषा का, ख़ज़ाना शब्दों का जाने-माने भाषाविद डॉ सुरेश पंत की पिछली पुस्तक “शब्दों के साथ-साथ” खूब चर्चित रही और एक वर्ष की अल्प-अवधि में...

RECENT POSTS