कागद कारे

कागद कारे

कर्नल अमरदीप* इस वेबपत्रिका के लिए नए नहीं हैं। आप पहले भी उनकी कवितायें यहाँ देख सकते हैं। आज प्रकाशित की जा रही ये दोनों कवितायें सुकोमल अनुभूतियों की ...
1. खड़ीक* का पेड़ मैं किसी को नहीं जानता था मैं सबको भूल जाऊँगा   पर मैं पत्थर था बहते पानी में
संकल्प घूम-घूम कर आता है  वह ज़िद्दी मच्छर, भिनभिनाता है  मेरे कानों के पास, जैसे बजा रहा हो 
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 6) Journalists are witness to history being made. They write the first rough draft of history through their daily accounts of events which they go on revising periodically....
सुभद्रा कुमारी चौहान की कविताओं के बहाने राजेन्द्र भट्ट ने इस लेख में यह सिफ़ारिश की है कि कविताओं को पढ़ते-गुनते समय अगर आप अपना बुद्धिजीवी और अति-गंभीर होने का आग्रह छोड़ कर समालोचना करेंगे तो इस...
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 5) Mrs Ekka, my neighbour’s wife suddenly held me by both my wrists and asked me to tell the truth as I stood at the entrance of...
अजीत सिंह* (रेडियो-वाणी 4) रेडियो कश्मीर से काफी यादें जुड़ी हैं जिनमें से एक मैंने पिछली बार साझा की थी। अफसोस की बात ये है कि धरती का स्वर्ग कहे...
पारुल बंसल* स्त्री के अमूल्य प्रहर स्त्री चौके में सिर्फ रोटियां ही नहीं बेलती वह बेलती है अपनी थकान पचाती है दुःख
अव्यक्त* क्या आप किसी ऐसे सफल व्यवसायी की कल्पना कर सकते हैं जिसने सफल होते हुए भी अपनी कोई व्यक्तिगत संपत्ति ना बनाई हो, उसका कोई व्यक्तिगत बैंक अकाउंट ही ना हो? हमसे...
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 3) The CRPF inspector saluted me as he entered my office at Radio Kashmir Srinagar, in tow with two women constables. I knew him well. He was...

RECENT POSTS