सत्येंद्र प्रकाश* सत्येंद्र प्रकाश इस वेब पत्रिका पर पिछले कुछ समय से निरंतर लिख रहे हैं और मानव मन की अतल गहराइयों को छू सकने की अपनी क्षमता से हमें अच्छे से वाक़िफ...
सत्येंद्र प्रकाश* गर्मी की छुट्टियाँ खत्म हुईं थीं .  पहली जुलाई को छुट्टियों के बाद गाँव का स्कूल खुल रहा था। गाँव के सामान्य जीवन की चहल पहल थोड़ी बढ़ी थी। दस बीस बच्चे जो भी...
सत्येन्द्र प्रकाश* इस लेख में मैं आज आपको अपने गाँव की तीन महिलाओं की कहानी सुनाऊँगा। पर पहले ही बता दूँ कि ये कहानी असाधारण महिलाओं की नहीं है। बल्कि अति साधारण ऐसी तीन...
भगवान् बुद्ध से जुड़े कुछ रोचक प्रसंग मयंक अग्रवाल* मयंक अग्रवाल की कौशाम्बी यात्रा पर आधारित यह लेख कई मायनों में महत्वपूर्ण है। कौशाम्बी के नाम से हमारे सुधि पाठक परिचित...
सत्येन्द्र प्रकाश* इस कहानी का पहला भाग आप यहाँ  पढ़ सकते हैं। हरसिंगार होली के दिन मौलवी साहब के साइकिल को जाते हुए दूर तक देखता रहा। कचनारों की...
Nupur Joshi* Lilly loved an Ice Cream Cake! I had discovered it on the day she had fallen off her new pink bike, scraping her entire left knee and getting a...
सत्येन्द्र प्रकाश* हरसिंगार आज उदास था। बहुत उदास! कचनार के वे दो पेड़ शायद आज कट जाएँगे। ये दो कचनार उसके साथ ही तो लगाए गए थे। साथ साथ पनपे, बढ़े। साथ साथ पल्लवित...
असम में खूब चर्चित और असम के बाहर भी अपनी अच्छी पहचान बना चुके साहित्यकार विनोद रिंगानिया ने अपने हाल ही में प्रकाशित ऐतिहासिक उपन्यास “डॉ वेड की डायरी – असम में अंग्रेज़ी राज की शुरुआत” का...
विनोद रिंगानिया* असम में खूब चर्चित और असम के बाहर भी अपनी अच्छी पहचान बना चुके साहित्यकार विनोद रिंगानिया ने अपने हाल ही में प्रकाशित ऐतिहासिक उपन्यास “डॉ वेड की डायरी – असम में...
सत्येन्द्र प्रकाश* टूर्नामेंट का आखिरी मैच, फाइनल! शामपुर की टीम कप की प्रबल दावेदार थी। उसकी भिड़ंत इस आखिरी मैच में रतनपुरा से थी। रतनपुरा की टीम का फाइनल में पहुँचना विश्वास से परे ...

RECENT POSTS