Nupur Joshi* When Kavi was a young girl she would sit by her window sill looking out at her garden, dreaming...
Suresh Pant* These prison notes are true tales from "jail within a jail" told by an activist author B. Anuradha who had been a political prisoner herself in Hazaribag jail for about four years...
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 8) – Special on the 20th Anniversary of 9/11 On the first anniversary of the 9/11 attacks on its World Trade Centre towers in New York and the...
मोपांसा* (अनुवाद एवं कहानी के अंत में समीक्षा राजेन्द्र भट्ट** द्वारा) मृत्यु के समय वह गौरव के शिखर पर पहुँच गया था। बड़ी अदालत का मुख्य न्यायाधीश था वह...
प्रेम चंद जयंती (31 जुलाई) पर विशेष राजेंद्र भट्ट* कथाकार प्रेमचंद की कथाओं -  तावान और गुल्ली-डंडा पर प्राध्यापकों और समालोचकों की भाषा-शैली की बजाय साधारण पर संवेदनशील और ‘फोकस्ड’ पाठक...
प्रेम चंद जयंती (31 जुलाई) पर विशेष राजेंद्र भट्ट* पिछले वर्ष प्रेमचंद जयंती (31 जुलाई 2020)  के अवसर पर रागदिल्ली में अपने लेख में मैंने उनकी...
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 7) - Special on Kargil Vijay Divas 26th July Kargil was largely a deserted town when our cavalcade reached here in the midst...
कर्नल अमरदीप* इस वेबपत्रिका के लिए नए नहीं हैं। आप पहले भी उनकी कवितायें यहाँ देख सकते हैं। आज प्रकाशित की जा रही ये दोनों कवितायें सुकोमल अनुभूतियों की ...
1. खड़ीक* का पेड़ मैं किसी को नहीं जानता था मैं सबको भूल जाऊँगा   पर मैं पत्थर था बहते पानी में
संकल्प घूम-घूम कर आता है  वह ज़िद्दी मच्छर, भिनभिनाता है  मेरे कानों के पास, जैसे बजा रहा हो 

RECENT POSTS