पिंजरे में

ओंकार केडिया एक उदास सी चिड़िया वक़्त-बेवक्त कभी भी आ जाती...

कोरोना डायरी

आज की बात इस स्तंभकार को कोरोना की देश में चिंता शुरू होते ना होते ये समझ...

‘Catastrophizing’ the present

Sudhirender Sharma Lockdown is testing human endurance. Isn’t it? Never before have humans been caged, and never have...

शिक्षा, संगठन और संघर्ष का संदेश

राजेन्द्र भट्ट 14 अप्रैल को डॉ॰ भीमराव अम्बेडकर की जयंती है। कहाँ से शुरू करें? इतना विराट-बहुआयामी व्यक्तित्व;...

कौन थे महात्मा गांधी के आध्यात्मिक मार्गदर्शक?

‘महात्मा के महात्मा’ - सुज्ञान मोदी की पुस्तक का परिचय अगर आपसे प्रश्न किया जाये कि महात्मा...

नींद तो आपको भी आए

राजेन्द्र भट्ट नक्कारखाने में तूती – 6 लंबे अंतराल तक किसी अनिष्ट की आशंका जैसी...

कुदरत दे सब बंदे

–*इन्दु मेहरा वो संकरी गलियां जहां लम्बे अरसे से चहल-पहल रही है, रौनक रही है, हैरानी है आज वहाँ...

Interview with Aditya Nigam on cross-currents in Contemporary Indian Politics

Prof Aditya Nigam works at the Centre for the Study of Developing Societies, Delhi. His recent work...

आशंकाएं जो सच हो गईं

आखिरी पन्ना आखिरी पन्ना उत्तरांचल पत्रिका के लिए लिखा जाने वाला एक नियमित स्तम्भ है। यह...