जागें जथा सपन भ्रम जाई

डॉ मधु कपूर* पिछले कुछ समय से इस वेब-पत्रिका में हम विभिन्न दार्शनिक सिद्धांतों पर डॉ मधु कपूर के...

चाकू: हथियार या विचार – सलमान रुश्दी की नई किताब पर...

सुधीरेन्द्र शर्मा* 35 वर्ष पूर्व ईरान के धार्मिक और राजनीतिक नेता अयातुल्लाह ख़ुमैनी ने भारत में जन्मे ब्रिटिश...

द्विमुखी सत्य की संकल्पना

डॉ मधु कपूर* आजकल पूरे विश्व में ‘उत्तर-सत्य काल’ या ‘Post-truth Era’ का बोलबाला है। ऐसे में...

‘ना’ कहने का साहस – बच्चों की समझदार कहानियाँ -3

राजेन्द्र भट्ट* राजेन्द्र भट्ट के नए-नए साहित्यिक प्रयोगों की प्रयोगशाला यह वेबपत्रिका ही है। अभी कुछ...

अहसास दोस्ती का और एहसान रिश्तेदारी का – दोस्ती और रिश्तेदारी...

सुधीरेन्द्र शर्मा* रिश्तेदारी का उद्गम कैसे और कब हुआ इस पर विचार करने से अच्छा तो यह है कि...

उर्वशी के बहाने – दिनकर का उनकी पचासवीं पुण्य-तिथि पर स्मरण

राजेन्द्र भट्ट* ‘जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनका भी अपराध’ - रामधारी सिंह दिनकर की यह कालजयी चेतावनी...

काल की चपेट – दार्शनिक सिद्धांतों की व्याख्या-शृंखला का छठा लेख

डॉ मधु कपूर* काल का व्यक्तित्व बहु आयामी है। हमारी हर क्रिया में काल...

क्या गुल खिलाएगी मतदाताओं की खामोशी !

राजकेश्वर सिंह* लोकसभा चुनाव के पहले चरण में हुआ फीका मतदान कुछ ज्यादा चौकाने वाला नहीं है। यह आशंका...

कहानी पन्नालाल की – बच्चों की समझदार कहानियाँ- 2

राजेन्द्र भट्ट* राजेन्द्र भट्ट नए-नए साहित्यिक प्रयोग करते रहते हैं। उनकी प्रयोगशाला हमारी वेबपत्रिका...