भाषा बहता नीर

-राजेंद्र भट्ट* अक्सर ऐसा होता है कि हम किसी  तथ्य के  अटपटेपन को  बार-बार देखते हुए भी उस...

Right-wing Consolidation: A Tale of Countermobilization...

As BJP Government enters seventh year of its electoral dominance, signs of creeping influence of the rightist thinking can be seen to...

शक़

शक़ कहानी की पृष्ठभूमि असम का बोड़ो जनजातीय इलाका है। कब बोड़ो अस्मिता के लिए शुरू हुई जद्दोजहद शांतिपूर्ण आंदोलन से...

……या फिर हम इंसान नहीं

बिना किसी पूर्व-चेतावनी के हुए लॉक-डाउन ने देश के बड़े शहरों में रह रहे दिहाड़ी मज़दूरों को जिस तरह अचानक बेघर कर...

Can Democracy Survive Allure of the Core Voter?

For past some years in politics, there is less emphasis on ‘swing voters’ and an overt effort to keep the hardcore...

वह अपने घर में प्रवासिनी

क्या है भारत माता? क्या है अपना भारत? पंडित नेहरू की पुण्यतिथि पर राजेन्द्र भट्ट* की आज के...

शहरे खामोशां में जिंदगी की चंद बातें

जय गोपाल कुमरा 85-वर्षीय जय गोपाल कुमरा आज जब टेलीविज़न पर प्रवासी मजदूरों की बदहाली देखते हैं तो...

यात्रा

ओंकार केडिया* मुझे नहीं देखने शहरों से गाँवों की ओर जाते अंतहीन...

Muddying the Waters to Cover Migrant Workers Crisis

There is a strategy of keep lobbing grenades into the fault lines of society without any evidence and that will crowd...