कागद कारे

कागद कारे

Suresh Pant* These prison notes are true tales from "jail within a jail" told by an activist author B. Anuradha who had been a political prisoner herself in Hazaribag jail for about four years...
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 8) – Special on the 20th Anniversary of 9/11 On the first anniversary of the 9/11 attacks on its World Trade Centre towers in New York and the...
मोपांसा* (अनुवाद एवं कहानी के अंत में समीक्षा राजेन्द्र भट्ट** द्वारा) मृत्यु के समय वह गौरव के शिखर पर पहुँच गया था। बड़ी अदालत का मुख्य न्यायाधीश था वह...
प्रेम चंद जयंती (31 जुलाई) पर विशेष राजेंद्र भट्ट* कथाकार प्रेमचंद की कथाओं -  तावान और गुल्ली-डंडा पर प्राध्यापकों और समालोचकों की भाषा-शैली की बजाय साधारण पर संवेदनशील और ‘फोकस्ड’ पाठक...
प्रेम चंद जयंती (31 जुलाई) पर विशेष राजेंद्र भट्ट* पिछले वर्ष प्रेमचंद जयंती (31 जुलाई 2020)  के अवसर पर रागदिल्ली में अपने लेख में मैंने उनकी...
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 7) - Special on Kargil Vijay Divas 26th July Kargil was largely a deserted town when our cavalcade reached here in the midst...
कर्नल अमरदीप* इस वेबपत्रिका के लिए नए नहीं हैं। आप पहले भी उनकी कवितायें यहाँ देख सकते हैं। आज प्रकाशित की जा रही ये दोनों कवितायें सुकोमल अनुभूतियों की ...
1. खड़ीक* का पेड़ मैं किसी को नहीं जानता था मैं सबको भूल जाऊँगा   पर मैं पत्थर था बहते पानी में
संकल्प घूम-घूम कर आता है  वह ज़िद्दी मच्छर, भिनभिनाता है  मेरे कानों के पास, जैसे बजा रहा हो 
Ajeet Singh* (Radio-Vaani 6) Journalists are witness to history being made. They write the first rough draft of history through their daily accounts of events which they go on revising periodically....

RECENT POSTS